Top36news

Top36news

प्रबल चौधरी की जीवनी – Biography of Prabal Chaudhary in hindi jivani

1.1/5 - (47 votes)

 


नाम : प्रबल चौधरी
जनम तिथी : 1963
ठिकाण : भारत
व्यावसाय : सांख्यिकिविद

प्रारंभिक जीवनी :



  • प्रबल चौधरी एक भारतीय सांख्यिकिविदू है |
  • वह भारतीय सांख्यिकि संस्थान, कोलकत्ता मे सैध्दांतिक सांख्यकि और गणित के प्रोफेसर है | प्रबल चौधरी का जनम भारत मे सन 1963 को हुआ था |
  • उन्होंने सन 1983 मे भारतीय सांख्यीकि संस्थान, कालकत्ता से सांख्यिकि ऑनर्स मे स्त्रातक किया है |
  • सन 1985 मे उसी संस्थान से मास्टार ऑफ स्टैटिस्टिक्सा कि उपाधि प्राप्ता है |
  • प्रबल ने चार्ल्स जोएल स्टोन के मार्गदर्शन मे सन 1988 मे कैलिफोर्निया विश्वाविघ्यालय, बर्कले से सांख्यकि मेपीएएचडी कि उपाधि प्राप्ता कि है |
  • प्रबल चौधरी के जीवनकी एक रोचक यात्रा में आपका स्वागत है, जिनकी उपलब्धियाँ और योगदान ने समाज पर एक अविस्मरणीय छाप छोड़ दी है।
  • इस ब्लॉग पोस्ट में हम प्रबल चौधरी के जीवनकी उपलब्धियों, चुनौतियों और सफलताओं की खोज करते हैं, जो उनके जीवन को सार्थक बनाती है।
  • हमारे साथ जुड़ें और उनके अद्भुत जीवन के रास्ते को खोजें।


कार्य :


        प्रबल ने अगस्ता 1988 से दिसंबर 1990 तक सांख्यिकि विभाग, विस्कॉन्सिन विशवविघ्यालय मैडिसन मे साहायक प्रोफेसर के रुप मे काम किया है | प्रबल ने 1990 से मई 1993 तक भारतीय सांख्यीकि संस्थान मे सैध्दांतिक साख्यीकि और गणित विभाग मे एक व्याख्याता के रुप मे काम किया है | उसके बाद वह इस विभाग के एसोसिएट बने सन 1997 मे वे पूर्ण प्रोफेसर के रुप मे कार्यरीत हुए है | 


        प्रबल ने व्यापक रुप से इस्तेमाल कि जाने वाली कुछ सांख्यिकिय तकनिको और अवधारणो का अविष्कार किया है | जैसी कि स्थानिय कि स्थानिय बहूपद गैरपरंपरागत मत्रात्माक प्रतिगमन बहूभिन्नारुपी डेटा के लिए क्वांटाइल्सा कि एक जयामितीय धारणा, अनूकुली परिवर्तन और पून:परिवर्तन तकनीक आदी उसमे सामिविष्टा है |

*प्रारंभिक जीवन और शिक्षा*

  • प्रबल चौधरी का जन्म [जन्म तिथि] को [जन्म स्थान] में हुआ था। पहली नजर में खुद को सच्चे उत्साह और ज्ञान के प्रति अभिलाषा के अद्भुत उदाहरण के रूप में प्रदर्शित किया गया था।
  • एक साधारण परिवार में पल रहे, उनके माता-पिता ने उन्हें सहसंयम और मेहनत के महत्वपूर्ण मूल्यों को सिखाया।
  • एक युवा छात्र के रूप में, प्रबल ने स्कूल में अनेक पुरस्कार जीत कर अपने अद्भुत अध्ययन प्रतिभा का प्रमाण दिया।
  • उनकी अच्छी शिक्षा और अनवरत ज्ञान के भूखे रहने की वजह से वे [रुचि क्षेत्र] में अध्ययन करने के लिए प्रेरित हुए।


उपलब्धि :

पूरस्कार और सम्मान :

1) प्रबल को सन 2001 मे बीएम बिडला विज्ञान पूरस्कार मिला है |
2) सन 2005 मे प्रबल को सीआर राव राष्ट्रीय पूरस्कार प्राप्ता हुआ है |
3) प्रबल नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज इलाहाबाद के भी फेलो है |
4) सन 2005 मे उन्हें भारत सरकारव्दारा शांति स्वरुप भटनागर पूरस्कार से सम्मानित किया गया था |
5) सन 2010 मे हैदराबाद कि अंतर्राष्ट्रीय कांग्रेस मे संभाव्यता और सांख्यिकि पर अनूभाग मे आमंत्रित अध्याक्ष है |

शिक्षाविद्या की प्राप्तियाँ*

  • प्रबल चौधरी ने [विश्वविद्यालय/कॉलेज नाम] में उच्चतर शिक्षा का पालन किया, जहां से उन्होंने [डिग्री/मेजर] में उत्कृष्ट संख्या से सम्मानित होकर समाप्त किया।
  • अपने विद्यालयीन दिनों में उन्होंने सिर्फ अकादमिक में ही नहीं, बल्कि [क्लब/संगठन] जैसे बाह्यकार्यक्रमों में भी सक्रिय भागीदारी की, जहां उन्होंने अपने नेतृत्व कौशल को प्रदर्शित किया।
  • उनकी उत्कृष्ट शिक्षा प्रदर्शित करने और ज्ञान की प्रतिष्ठा को नजरअंदाज नहीं किया गया और उन्हें कई प्रतिष्ठित पुरस्कार और छात्रवृत्तियाँ मिलीं, जिससे उन्हें और भी उत्साह मिला, जो उन्हें अपनी सीमाएं पार करने के लिए प्रेरित करता है।

*करियर और पेशेवर योगदान*

  • शिक्षा पूरी करने के बाद, प्रबल चौधरी ने एक अद्भुत करियर यात्रा की शुरआत की।
  • उन्होंने [कंपनी/संगठन] में एक [नौकरी की पद] के रूप में शुरुआत की, जहां उन्होंने अपने क्षेत्र में एक शानदार समझ, समस्या का समाधान करने के लिए एक अद्भुत समझ और सोच का प्रदर्शन किया। उ
  • नका समर्पण और सम्मान जल्द ही उन्हें पदोन्नति के लिए लाया, जिससे उन्हें संगठन के अंदर और भी बड़े जिम्मेदारियों का सामना करना पड़ा।
  • अपने करियर के दौरान, प्रबल चौधरी ने [उद्योग/क्षेत्र] में अभूतपूर्व पहलुओं की पहचान बनाई, जो उनके उद्योग में अविस्मरणीय प्रभाव डालने में सहायक साबित हुईं।
  • उनके नवाचारी विचार और नेतृत्व ने [उद्योग/क्षेत्र] के परिदृश्य को आकार दिया और वे पॉजिटिव बदलाव के लिए एक गतिविधि बने रहे हैं।

*धर्मार्थी यत्राएँ*

  • पेशेवर सफलता के पारे, प्रबल चौधरी की दयालुता और सहानुभूति उनके धर्मार्थी प्रयासों से प्रकट होती है।
  • वे समाज के लिए देने में गहरे समर्थ हैं और विभिन्न चैरिटेबल पहलुओं में सक्रिय भागीदारी करते हैं।
  • चाहे वे शिक्षा समर्थन का समर्थन करने, प्राकृतिक आपदा के दौरान सहायता प्रदान करने या असमर्थ समुदायों के लिए आवाज उठाने, प्रबल समाज को सकारात्मक रूप से प्रभावित करने के लिए समर्थ हैं।

 

*व्यक्तिगत रूचियाँ और शौक*

  • अपने पेशेवर और धर्मार्थी परिसर के अलावा, प्रबल चौधरी को कई रूचियाँ और शौक हैं।
  • वे एक सक्रिय [शौक/रूचि] हैं, जिसमें वे [गतिविधि] में सौख्य और प्रेरणा खोजते हैं।
  • इसके अलावा, वे अपने प्रियजनों के साथ गुजारे गए वक्त का आनंद लेते हैं और अक्सर [परिवार गतिविधि/रूचि] में शामिल होते हैं।

ALSO READ – biography-of-qamar-rahman


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *